Amendments to the Juvenile Justice Act, 2015approve by Cabinet किशोर न्याय (देखभाल और बाल संरक्षण) विधेयक 2015 में संशोधन को मंजूरी दी

Amendments to the Juvenile Justice Act, 2015approve by Cabinet किशोर न्याय (देखभाल और बाल संरक्षण) विधेयक 2015 में संशोधन को मंजूरी दी 

मंत्रिमंडल ने किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल एवं संरक्षण) अधिनियम, 2015 में संशोधन को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बच्चों के हितों को सुनिश्चित करने व बाल संरक्षण व्यवस्था को मजबूत बनाने के उपायों को सुनिश्चित करने के लिये महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के किशोर न्याय (देखभाल और बाल संरक्षण) विधेयक 2015 में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

[post_ads]

संशोधन में मामलों के तेजी से निपटारा सुनिश्चित करने तथा जवाबदेही बढाने के लिए जिला मजिस्ट्रेट तथा अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट को किशोर न्याय अधिनियम की धारा 61 के तहत गोद लेने का आदेश जारी करने का अधिकार दिया गया है। जिला मजिस्ट्रेट को अधिनियम के तहत और अधिक सशक्त बनाते हुए कानून के सुचारू क्रियान्यवन का भी अधिकार दिया गया है जिससे संकट की स्थिति में बच्चों के पक्ष में समन्वित प्रयास किए जा सकें। 

सीडब्ल्यूसी सदस्यों की नियुक्ति संबंधी योग्यता मानदंडों को परिभाषित करने और पहले से अनिर्धारित अपराधों को 'गंभीर अपराध' के रूप में वर्गीकृत करने की भी बात विधेयक के प्रस्ताव में कही गयी है। कानून के विभिन्न प्रावधानों पर अमल में आने वाली दिक्कतों को भी दूर किया गया है।
Juvenile Justice Act
Cabinet approves Amendments to the Juvenile Justice (Care and Protection of Children) Act, 2015

The Union Cabinet, chaired by the Prime Minister, Shri Narendra Modi has approved the proposal of the Ministry of Women and Child Development to amend the Juvenile Justice (Care and Protection of Children) Act, 2015 to introduce measures for strengthening Child Protection set-up to ensure best interest of children.

[post_ads_2]

The amendments include authorizing District Magistrate including Additional District Magistrate to issue adoption orders under Section 61 of the JJ Act, in order to ensure speedy disposal of cases and enhance  accountability. 

The District Magistrates have been further empowered under the Act, to ensure its smooth implementation, as well as garner synergized efforts in favour of children in distress conditions. Defining eligibility parameters for appointment of CWC members, and categorizing previously undefined offences as ‘serious offence’ are some of the other aspects of the proposal. Several difficulties faced in implementation of various provisions of the Act have also been addressed.

Source: PIB

नोट :- हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com पर ऐसी जानकारी रोजाना आती रहती है, तो आप ऐसी ही सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com से जुड़े रहे। 
*****

Comments

This week popular schemes

Apply Online for State Health Card in Uttar Pradesh under UP SECTS Scheme

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना लाभार्थी सूची 2021 Pradhan Mantri Gramin Awas Yojana List 2021

Kranthi Veera Sangolli Rayanna Sainik School at Belgaum district of Karnataka on the erstwhile pattern of Sainik Schools

Uttar Pradesh One District One Product Training and Toolkit Scheme : उत्तर प्रदेश एक जनपद एक उत्पाद प्रशिक्षण एवं टूलकिट योजना

LIC IPO Allotment Date एलआईसी आईपीओ शेयर अलॉटमेंट

7th Pay Commission increase to 13% DR इन सरकारी कर्मचारियों को मिली बड़ी राहत, 13 फीसद DR में बढ़ोतरी

Consumer Price Index Numbers on Base 2012=100 for Rural, Urban and Combined for the Month of April 2022

What is Pradhan Mantri Awas Yojana-Urban? Who can avail it?

ISRO NAVIC GPS App Download : Indian Regional Navigation Satellite System (IRNSS)

Quick Estimates of Index of Industrial Production and Use-Based Index for the Month of March, 2022 (Base 2011-12=100)