पीएम आवास योजना की किश्त की मांग को लेकर प्रदर्शन

पीएम आवास योजना
लंढौरा के लोगों ने पीएम आवास योजना की किस्त की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। पीड़ितों का कहना है कि चार साल से किश्त न मिलने से पन्नी डाल कर खुले आसमान के नीचे रहने पर मजबूर होना पड़ रहा है।

लंढौरा निवासी शाहिद हुसैन, नसीम हुसैन, माजिद हुसैन, अरशद, यूनुस मालिक समेत 20 से अधिक लोगों का कहना है कि चार साल पहले पीएम आवास योजना सूची में उनके नाम शामिल किए गए थे। 20 हजार रुपये की पहली किश्त मिलने पर उन्होंने अपने कच्चे भवनों को तोड़कर निर्माण शुरू कर दिया था। इन लोगों का कहना है कि किसी को 80 हजार और किसी को 1.20 लाख रुपये की किस्त देकर बाकी पैसा रोक लिया गया। जिसके चलते अधिकतर लोग तभी से छतों पर पन्नी डाल कर रह रहे हैं। मजीद और यूनुस ने बताया कि उन्होंने ब्याज पर पैसा लेकर भवनों पर लिंटर डाल लिया था। लेकिन अभी तक बाकी किश्त न मिलने पर ब्याज का पैसा जेब से देना पड़ रहा है। कई लोगों का कहना है कि वह काफी समय से किराए के भवनों में रह रहे हैं। पीड़ित लोगों का कहना है कि कई बार जनप्रतिनिधियों और नगर पंचायत अधिकारियों से किश्त डालने की मांग की जा चुकी है। लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। बुधवार को पीड़ित लोगों ने प्रदर्शन कर योजना की बाकी रकम खाते में डाले जाने की मांग की। प्रदर्शन करने वालों में शहीद, हैदर, अरशद, शमीम, इस्तखार, इसरार, इनाम, माजिद हुसैन आदि शामिल रहे।

पीड़ितों की पीड़ा

अभी तक मकान बनाने के लिए 2 बार किश्त मिली है। वहीं अन्य किश्त न मिलने पर मकान का निर्माण अधूरा है। वह बच्चे के साथ खुले आसमान के नीचे रह रही है।

एक साल में मात्र 80 हजार रुपये मिले हैं। किश्त न मिलने पर मकान का निर्माण अधूरा है। शिकायत के बावजूद भी किश्त जारी करने में पंचायत अधिकारी आनाकानी कर रहे हैं।

चार साल पहले मकान स्वीकृत हुआ था। योजना की किश्त न मिलने के कारण मकान का काम अधूरा पड़ा हुआ है। नगर पंचायत के चक्कर काट काट कर थक चुके है।

योजना का कुछ पैसा आया है। जल्द ही उक्त रकम को पात्र लोगों के खाते में भेज दी जाएगी।

Source: 
https://www.amarujala.com

नोट :- हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com पर ऐसी जानकारी रोजाना आती रहती है, तो आप ऐसी ही सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com से जुड़े रहे।
*****