UPSC Civil Services Exam :वूमेन सुपर 30 ला सकती है मोदी सरकार यूपीएससी सिविल सेवा की तैयारी के लिए


UPSC Civil Services Exam : यूपीएससी सिविल सेवा की तैयारी के लिए वूमेन सुपर 30 ला सकती है मोदी सरकार
UPSC Civil Services Exam
UPSC Civil Services exam : केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहीं महिला उम्मीदवारों के लिए वूमेन सुपर 30 ( Women Super 30 ) शुरू करने का सुझाव दिया है। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, उन्होंने महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी को इस संबंध में पहल करने का सुझाव दिया है। उन्होंने यह विचार उस वक्त रखा जब वह मसूरी स्थित लालबहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी की फैकल्टी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बातचीत कर रहे थे। UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास करने वाले सभी उम्मीदवारों को ट्रेनिंग के लिए लालबहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी (LBSNAA) में बुलाया जाता है। 

[post_ads_2]

आधिकारिक बयान में कहा गया, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और मंत्रालय के अन्य अधिकारी भी जुड़े हुए थे। इस दौरान LBSNAA में नेशनल जेंडर सेंटर और महिला एवं बच्चों के सर्वांगीण विकास से जुड़े मुद्दों पर विचार विमर्श किया गया। 

जितेन्द्र सिंह ने महिला एवं बाल विकास मंत्री से अपील की कि यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहीं महिला उम्मीदवारों के लिए एक वूमेन सुपर 30 ग्रुप बनाया जाए ताकि वह फोकस होकर परीक्षा की तैयारी कर सकें। 

सुपर 30 पटना का मशहूर इंजीनियरिंग कोचिंग इंस्टीट्यूट है जहां गरीब बच्चों को IIT JEE की तैयारी करवाई जाती है। गणितज्ञ आनंद कुमार और बिहार के पूर्व डीजीपी अभ्यानंद ने 2002 में मिलकर इसकी स्थापना की थी। 

[post_ads]

जितेन्द्र सिंह ने कहा, पिछले कुछ सालों से सिविल सेवा परीक्षा में महिलाएं बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। टॉपरों की लिस्ट में लगातार वह आ रही हैं। 2014 में ईरा सिंघल, 2015 में टीना डाबी और 2016 में नंदिनी । 

सिंह ने कहा, अब हर राज्य से महिला उम्मीदवार अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। मसूरी एकेडमी में 20 से 23 फीसदी प्रोबेशनर्स महिलाएं हैं। यहां फैकल्टी में भी महिलाओं की अहम भूमिका है। 

हर वर्ष IAS, IPS ऑफिसर बनने का ख्वाब संजोने वाले लाखों उम्मीदवार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा देते हैं। इस परीक्षा को देश की सबसे चुनौतिपूर्ण प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक माना जाता है। 

यूपीएससी सिविल सेवा के जरिए इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज (आईएएस), भारतीय पुलिस सर्विसेज (आईपीएस) और भारतीय फॉरेन सर्विसेज (आईएफएस), रेलवे ग्रुप ए (इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस), इंडियन पोस्टल सर्विसेज, भारतीय डाक सेवा, इंडियन ट्रेड सर्विसेज सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है।

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों -- प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार-- में आयोजित की जाती है। मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार में प्रदर्शन के आधार पर फाइनल मेरिट लिस्ट जारी होती है।

Source : https://www.livehindustan.com

नोट :- हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com पर ऐसी जानकारी रोजाना आती रहती है, तो आप ऐसी ही सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com से जुड़े रहे
*****

Comments