Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana झारखण्ड वैकल्पिक खेती योजना क्या है?

इस योजना से राज्य के 5 लाख किसानों को जोड़ा जा रहा है, ताकि धान की जगह दलहनी, तिलहनी एवं सब्जियों की खेती कर सकें और 50% अनुदान का लाभ लेकर आर्थिक संकट से निकाल सकें । 

5 लाख किसानों को मिलेगा फायदा

वैकल्पिक खेती योजना तहत झारखंड के किसानों को धान की जगह अरहर, उरद, कुलथी, मक्का, तोरिया , मूंग, ज्वार और मडुआ की कम अवधि वाले और सूखा रोधी बीजों के लिये अनुदान दिया जायेगा, जिसकी मदद से कम बारिश या सूखा ग्रस्त इलाकों में भी खेती करके किसान आर्थिक संकट से निकल पायेंगे. इस योजना से राज्य के 5 लाख किसानों को जोड़ा जायेगा । 

झारखण्ड सरकार दुवारा राज्य के किसानो को खेती व फसल में लाभ पहुंचाने के लिए सरकार ने बहुत सी कल्याणकारी योजनाओ का संचालन किया जाता है। हाल ही में झारखण्ड सरकार ने अपने राज्य के किसानो को सूखे से बचाने और उन्हें सहायता प्रदान करने के लिए झारखंड वैकल्पिक खेती योजना का शुभारम्भ किया है। इस योजना के माध्यम से राज्य के किसानो को छोटी अवधि सूखा प्रतिरोधी नस्ल के बीज अनुदान पर प्रदान किए जा रहे हैं। 
Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana
झारखण्ड में बारिश के अधिक कमी होने के कारण खरीफ फसलों की खेती करने वाले किसान को बहुत सी समस्याओ का सामना करना पड़ता है। इसलिए अब सरकार दुवारा अब राज्य के किसानो को धान की सीधी बुआई, ऊपरी जमीन पर उड़द, मूंग, अरहर, मक्का, कुलथी, तोरिया,ज्वार,मडुआ की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। जिसके लिए उन्हें छोटी अवधि सूखा प्रतिरोधी नस्ल के बीज अनुदान पर प्रदान किये जायगे। 

Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana क्या है?

झारखण्ड के कृषि विभाग दुवारा और झारखण्ड सरकार दुवारा वैकल्पिक खेती योजना का शुभारम्भ किया गया है। इस योजना के माध्यम से राज्य के सभी किसानो को बारिश ना होने पर अधिक उपजाऊ बीज आदि के लिए अनुदान प्रदान किया जायगा। जिससे की राज्य  के किसान छोटी नसल के बीज अनुदान पर खरीदकर अपनी फसल को बिना बारिश के भी अधिक मात्रा में ऊगा पाए। झारखण्ड में कम मात्रा में बारिश होती है लेकिन राज्य के किसान बिना बारिश के भी इन छोटी नसल के बीजो में अधिक फसल को ऊगा पाते है क्यूंकि ये बीज कम बारिश में भी प्रभेद सफल होने की क्षमता रखते हैं।

झारखंड राज्य कृषि निदेशक जी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है कि तोरपा महिला कृषि बागवानी स्वालम्बी सहकारी समिति लिमिटेड, सदस्य किसान FPO के CEO प्रिय रंजन से समन्वय स्थापित कर ब्लॉक चेन प्रणाली में पंजीकरण करा लें और जल्द से जल्द बीज क्रय शीघ्र करें। Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana 2023 के माध्यम से राज्य के किसानो की आय भी दोगुना बढ़ पाएगी और खेती करने में सहायता भी अधिक मिल पाएगी। 

Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana का उद्देश्य

इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य राज्य के किसानो को वैकल्पिक खेती जैसे ,दलहनी ,तिलहनी और सब्जियों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित करना है|किसानों को झारखंड वैकल्पिक खेती योजना 2023 के प्रति जागरूक करने के लिए जगह-जगह गोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। राज्य सरकार एवं कृषि विभाग द्वारा इस योजना के माध्यम से 5 लाख किसानों को अनुदानित बीज प्रभेद उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। इस योजना के माध्यम से राज्य के किसानो को जो सूखा पड़ने पर नुक्सान होता है उसकी भराई की जा सकेगी | इसी के साथ राज्य के किसान जो सूखा पड़ने पर भी खेती को अधिक मात्रा में उगाते है उन सभी किसानो को प्रोत्साहित किया जायगा | राज्य  के किसान इस योजना के माध्यम से जीवन में होने वाले आर्थिक नुक्सान से भी बच पायगे  और आत्मनिर्भर वे सशक्त भी बन पायगे |

Highlights of झारखंड वैकल्पिक खेती योजना  

योजना का नाम

Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana

शुरू की गई

झारखंड सरकार एवं कृषि विभाग द्वारा

साल

2023

लाभार्थी

राज्य के किसान

उद्देश्य

दलहन, तिलहन एवं सब्जियों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित करना

राज्य

झारखंड


Vaikalpik Kheti Yojana का लाभ
  • झारखंड सरकार द्वारा वैकल्पिक खेती योजना 2023 को किसानों के पक्ष में शुरू किया गया है।

  • झारखंड सरकार द्वारा इस योजना को राज्य की सूखे की स्थिति देखते हुए शुरू किया गया है।

  • योजना के माध्यम से किसानों को दलहन तिलहन एवं सब्जियों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

  • जिसके लिए राज्य के किसानों को धान के साथ अरहर, उरद, कुलथी, मक्का, तोरिया, मूंग, ज्वार और मडुआ के छोटी अवधि सूखा प्रतिरोधी नस्ल के बीज अनुदान पर दिया जाएगा।

  • खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड के FPO तोरपा महिला कृषि बागवानी स्वालम्बी सहकारी समिति लिमिटेड द्वारा सुखा प्रतिरोधी कम अवधि उड़द प्रभेद PU-31 बीज 50% अनुदानित दर पर ₹64 प्रति किलो पर उपलब्ध करवाए जा रहे हैं।

  • यह बीज कम वर्षा में भी प्रभेद सफल होने की क्षमता रखते हैं।

  • इसी के साथ राज्य के किसान जो सूखा पड़ने पर भी खेती को अधिक मात्रा में उगाते है उन सभी किसानो को प्रोत्साहित किया जायगा 

  • राज्य  के किसान Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana 2023 के माध्यम से जीवन में होने वाले आर्थिक नुक्सान से भी बच पायगे  और आत्मनिर्भर वे सशक्त भी बन पायगे |
झारखंड वैकल्पिक खेती योजना के तहत पात्रता एवं आवश्यक दस्तावेज
  • लाभार्थी किसान झारखण्ड का मूलनिवासी होना चाहिए |
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता विवरण
  • मोबाइल नंबर
Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana के तहत पंजीकरण प्रक्रिया
  • पहले आपको तोरपा महिला कृषि बागवानी स्वालम्बी सहकारी समिति लिमिटेड सदस्य की FPO के CEO प्रिय रंजन से समन्वय स्थापित करना है।

  • आपको ब्लॉक चैन प्रणाली में अपना पंजीकरण करवाना है।

  • पंजीकरण करवाने के बाद आप अनुदानित छोटी अवधि सूखा प्रतिरोधी नस्ल के बीज खरीद सकते हैं।
Source: https://www.abplive.com/agriculture/apply-here-for-alternative-farming-scheme-vaikalpik-kheti-yojana-became-helpful-for-farmers-troubled-by-paddy-2199345

नोट :- हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com पर ऐसी जानकारी रोजाना आती रहती है, तो आप ऐसी ही सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारे वेबसाइट www.indiangovtscheme.com से जुड़े रहे।
*****
लेटेस्‍ट अपडेट के लिए  Facebook --- Twitter -- Telegram से  अवश्‍य जुड़ें