Featured Post

Three years of PM Narendra Modi government: Financial schemes take a big leap

Three years of PM Narendra Modi government: Financial schemes take a big leap  Updated: May 24, 2017 10:03 PM As the Narendra Modi-l...

Thursday, April 4, 2019

Indian Army patrol recovered wreckage of a World War II भारतीय सेना के गश्‍ती दल को अरूणाचल प्रदेश से अमेरिकी विमान का द्वितीय विश्‍व युद्ध के समय का मलबा मिला

Press Information Bureau 
Government of India
Ministry of Defence
04-April-2019 13:24 IST
Indian Army patrol discovers wreckage of World War II us aircraft in Roing 

A 12 member Indian Army patrol along with a police representative recovered wreckage of a World War II vintage US Air Force aircraft in Roing district of Arunachal Pradesh on 30 Mar 2019. The patrol located the aircraft debris covered by thick undergrowth and buried under five feet of snow. Based on the information received from local trekkers of Lower Dibang district through the police, a special patrol of Army was sent to locate the wreckage in a remote location, 30 kms from Roing. The patrol moved cross country for 30 kilometers in thick jungles and snow covered areas for eight days to trace out the wreckage. The region had seldom been ventured by anyone in the past and is even obscured from air due to thick foliage. The discovery of the vintage aircraft and other warlike stores will definitely lead to revelation of some historical inputs .
discovers+wreckage

पत्र सूचना कार्यालय 
भारत सरकार
रक्षा मंत्रालय 
04-अप्रैल-2019 13:24 IST
भारतीय सेना के गश्‍ती दल को अरूणाचल प्रदेश से अमेरिकी विमान का द्वितीय विश्‍व युद्ध के समय का मलबा मिला 

भारतीय सेना के 12 सदस्‍यीय गश्‍ती दल ने पुलिस के साथ मिलकर 30 मार्च, 2019 को अरूणाचल प्रदेश के रोइंग जिले से अमेरिकी वायुसेना के एक विमान का मलबा खोज निकाला, जो द्वितीय विश्‍व युद्ध के समय का है। सेना के गश्‍ती दल को विमान का मलबा पांच फुट नीचे बर्फ में दबा मिला। मलबे के बारे में निचले दिबांग जिले के स्‍थानीय पर्वतारोहियों से पुलिस के जरिए मिली जानकारी के आधार पर सेना के एक विशेष गश्‍ती दल को रोइंग से 30 किलोमीटर दूर घने जंगलों और बर्फीले इलाके में भेजा गया। गश्‍ती दल को मलबे को खोज निकालने में आठ दिन लग गए। ऐस दुर्गम इलाके में शायद ही कभी कोई पहुंचा था। घनी झाडि़यां होने के कारण वायुमार्ग से भी यह इलाका कटा रहा। विमान के पुराने मलबे और युद्ध में इस्‍तेमाल हुई चीजों के बरामद होने से कुछ अहम ऐतिहासिक जानकारियां मिलने की संभावना है। 



Previous Post
Next Post

0 comments:

Popular Posts