Featured Post

Indian Railway Service of Signal Engineers Officer takes over as Member (Signal & Telecom) Railway Board

Press Information Bureau  Government of India Ministry of Railways 18-April-2019 17:34 IST Shri N. Kashinath, Indian Railway Ser...

Thursday, November 22, 2018

Young Scientist Awards 2018. युवा वैज्ञानिक पुरस्कार 2018

Advancement of Science & Technology, inclusive approach is crucial to become a developed nation: VP Science & Technology to make people’s lives better; Scientists must address challenges such as climate change and global warming; This is the most appropriate time for India to leverage the many opportunities before it & leap frog in development parameters; Step up investments in Science & Technology to support innovations; Presents NASI-Scopus Young Scientist Awards 2018. 
Young+Scientist+Awards
Vice President of India, Shri M Venkaiah Naidu said that the nation must leverage the talents and skills of the young and educated by realizing the demographic advantage of having 65 per cent of the population below the age of 35 years.

This is the most appropriate time for India to leverage the opportunity and leap frog in development parameters by overcoming challenges such as poverty, hidden hunger and economic inequalities, he said, while addressing the gathering after presenting the National Academy of Sciences, India (NASI) and Elsevier awards 2018 aimed at promoting scientific excellence among youngsters, at Vigyan Bhawan in New Delhi, today.

Shri Naidu said that the Indian Science fraternity must play a pivotal role and make India one of the top nations in Science & Technology to improve people’s lives.

‘Advancement of Science and Technology and an inclusive approach to development is crucial in addressing challenges such as poverty, illiteracy, gender discrimination and others’, he said and added that a nation cannot become developed unless these issues are addressed.

Vice President called upon the young scientists to find solutions to the present and emerging challenges faced by the world such as climate change, global warming, sustainable development, clean energy and water and diseases.

‘Only science can throw up solutions for the present and emerging problems in the years to come. The onus lies on the shoulders of the young scientific community to look for a way out for such pressing tribulations’, he said.

Vice President appealed to various corporate bodies and industries to promote scientific research in the country in a big way by creating an exclusive corpus for encouraging innovative R & D projects and disruptive technologies that could provide long-lasting answers to problems faced by the people.

At the same time, he also called for enhanced investments in Science & Technology to support innovations which would address issues relating to agriculture, environment, health, housing, clean drinking water and security, among others.

that the children and youth must develop scientific attitude, starting from school days, the Vice President stressed the need to create the right eco-system in universities and scientific institutions for research to thrive. He added that there was every need to kindle interest in science among school children by adopting innovative teaching methods.

Shri Naidu opined that as a growing nation, India cannot afford to ignore the importance of rankings of educational institutions. ‘While we have seen significant growth in research activities across India, our universities are still not able to feature in top 100 due to a variety of reasons’, he added.

He said that one must understand that there is a direct correlation between competitiveness and excellence, at the same time we need to focus on the societal impact of the scientific activities as well.

The Scopus Young Scientist Awards are part of an Elsevier’s global initiative to support early career researchers in their quest to advance the frontiers of science across a broad range of disciplines. In 2009, India officially adopted the program within its scientific community through Elsevier's collaboration with the National Academy of Sciences, India.

These awards are given in five categories - Women in Science, agriculture, Plant Sciences and Rural Development, Environmentally Sound Sustainable Development, Biomedical Research and Healthcare and Innovation in Engineering and Physical Sciences.

Shri. Saurabh Sharma, Vice President, APAC, Elsevier, Shri. Gino Ussi, Executive Vice President, Elsevier BV and other dignitaries bore witness to the ceremony.

एक विकसित राष्ट्र बनने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी की तरक्की, सम्मिलित दृष्टिकोण महत्वपूर्णः उपराष्ट्रपति लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी वैज्ञानिक जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग जैसी चुनौतियों से निपटें भारत के लिए उसके सामने मौजूद अनेक अवसरों का लाभ उठाने के लिए सबसे उपयुक्त समय नवोन्मेष के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में निवेश में तेजी लाएं एनएएसआई-स्कोपस युवा वैज्ञानिक पुरस्कार 2018 प्रदान किए 

उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा है कि इस बात को समझते हुए कि 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम आयु के लोगों की है, देश को युवा और शिक्षित लोगों की प्रतिभा और कौशल का लाभ आवश्यक उठाना चाहिए।
Young+Scientist+Awards
नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आज राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, भारत (एनएएसआई) और एल्सवियर पुरस्कार 2018 प्रदान करने के बाद एकत्र जनसमूह को संबोधित करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत के लिए यह सबसे उपयुक्त समय है कि वह गरीबी, अप्रत्यक्ष भूख और आर्थिक असमानता जैसी चुनौतियों से निपटकर अवसरों का लाभ उठाए और विकास के मानदंडों में आगे बढ़े। इस पुरस्कार का उद्देश्य युवाओं में वैज्ञानिक उत्कृष्टता को बढ़ावा देना है।

श्री नायडू ने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों को निर्णायक भूमिका अदा करनी चाहिए और लोगों का जीवन सुधारने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत को शीर्ष देशों की श्रेणी में खड़ा करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि गरीबी, निरक्षरता, लिंग, भेदभाव और अन्य चुनौतियों से निपटने में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की तरक्की और विकास के लिए सम्मिलित दृष्टिकोण महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि जब तक इन मुद्दों का हल नहीं होता तब तक कोई भी देश विकसित नहीं बन सकता।

उपराष्ट्रपति ने युवा वैज्ञानिकों का आह्वान किया कि वे जलवायु परिवर्तन, ग्लोबल वार्मिंग, निरंतर विकास, स्वच्छ ऊर्जा और जल तथा बीमारियों जैसी दुनिया के सामने मौजूद और उभरती हुई चुनौतियों का समाधान ढूंढे।

उन्होंने कहा कि केवल वैज्ञानिक ही आने वाले वर्षों में वर्तमान और उभरती हुई समस्याओं का समाधान निकाल सकते हैं। यह जिम्मेदारी युवा वैज्ञानिक समुदाय के कंधों पर है।

उपराष्ट्रपति ने विभिन्न कॉरपोरेट संगठनों और उद्योगों से अपील की कि वह देश में बड़ें पैमाने पर वैज्ञानिक अनुसंधान को बढ़ावा दें और अनुसंधान और विकास परियोजनाओं को प्रोत्साहित करने के लिए एक कोष बनाएं।

साथ ही उन्होंने नवोन्मेष के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में निवेश बढ़ाने का आह्वान किया। जिससे कृषि, पर्यावरण, स्वस्थ्य, आवास, स्वच्छ पेयजल और सुरक्षा से जुड़े मुद्दों का समाधान निकाला जा सके।

स्कोपस युवा वैज्ञानिक पुरस्कार एल्सवियर की युवा अनुसंधानकर्ताओं की सहायता करने की वैश्विक पहल का हिस्सा है। 2009 में भारत ने एल्सवियर के राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के साथ सहयोग के जरिए अपने वैज्ञानिक समुदाय में इस कार्यक्रम को आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया।

यह पुरस्कार पांच श्रेणियों में दिए जाते हैं- विज्ञान में महिला, कृषि, पादप विज्ञान और ग्रामीण विकास, पर्यावरण की दृष्टि से मजबूत निरंतर विकास, जैव-चिकित्सा अनुसंधान और स्वास्थ्य देखभाल तथा इंजीनियरिंग और भौतिक विज्ञान में नवोन्मेष।

एपीएसी एल्सवियर के उपाध्यक्ष श्री सौरभ शर्मा, एल्सवियर बीवी के कार्यकारी उपाध्यक्ष श्री जीनो उस्सी और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस समारोह में मौजूद थे।
Previous Post
Next Post

0 comments:

Popular Posts