Breaking

Wednesday, November 21, 2018

Patients save around Rs. 15,000 crores मरीजों ने लगभग 15,000 करोड़ रुपये बचाए हैं

Patients save around Rs. 15,000 crores under Government’s initiative of ensuring ‘Affordable, Quality Medicines for All’: Shri Mansukh Mandaviya 

Fixing of ceiling prices of Coronary Stents benefit approximately 10 lakh patients and that of Knee Implants benefit around 1.5 lakh patients since the step was taken
Patients+save+around+rs.
Minister of State for Chemicals & Fertilizers, Road Transport & Highways, Shipping, Shri Mansukh L. Mandaviya informed in a statement here yesterday that patients across the country have saved around Rs. 15,000 crores under Government’s initiative of ensuring ‘Affordable, Quality Medicines for All’, as per estimates of the National Pharmaceutical Pricing authority (NPPA).

Following the vision of Prime Minister of India, Shri Narendra Modi, to ensure health security for all citizens of India, the Ministry of Chemicals & Fertilizers has taken the step of fixation of ceiling prices and MRPs of essential and lifesaving drugs, as the case may be, by implementing the Drug Prices Control Order (DPCO), 2013. This step has resulted in patients saving over Rs. 5,000 crores since then, which is a big step in the direction of ensuring that no citizen suffers due to lack of affordable and good quality medicines in the country, the Minister said.

Further, Shri Mandaviya informed that these savings are in addition to approximately 10 lakh heart patients saving around Rs. 8,000 crores since fixation of ceiling prices of coronary stents (in February 2017, including re-fixation in February 2018) and around 1.5 lakh knee patients saving about Rs. 2,000 crores since price fixation of knee implants (in August 2017).

‘सभी के लिए किफायती, उत्तम दवाएं’ सुनिश्चित करने की सरकारी पहल से मरीजों ने लगभग 15,000 करोड़ रुपये बचाए हैं : श्री मनसुख मं‍डाविया 

कोरोनरी स्टेंट के अधिकतम मूल्‍य तय करने से अब तक लगभग 10 लाख मरीज लाभान्वित हुए हैं 

घुटना प्रत्‍यारोपण के अधिकतम मूल्‍य तय करने से अब तक लगभग 1.5 लाख रोगी लाभान्वित हुए हैं 
patients+save+around
रसायन एवं उर्वरक, सड़क परिवहन व राजमार्ग और शिपिंग राज्‍य मंत्री श्री मनसुख एल. मंडाविया ने कल  नई दिल्‍ली में एक वक्‍तव्‍य में यह जानकारी दी कि ‘सभी के लिए किफायती, उत्तम दवाएं’ सुनिश्चित करने की सरकारी पहल से देश भर में मरीजों ने लगभग 15,000 करोड़ रुपये बचाए हैं। उन्‍होंने बताया कि राष्‍ट्रीय औषधि मूल्‍य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) के अनुमानों से यह जानकारी मिली है।

देश के सभी नागरिकों के लिए स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा सुनिश्चित करने संबंधी प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के विजन को ध्‍यान में रखते हुए रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय ने दवा मूल्‍य नियंत्रण ऑर्डर (डीपीसीओ), 2013 को लागू करते हुए आवश्‍यक एवं जीवन रक्षक दवाओं के अधिकतम मूल्‍य और अधिकतम खुदरा मूल्‍य (एमआरपी) तय करने का कदम उठाया है। श्री मंडाविया ने कहा कि इस कदम से मरीज अब तक 5,000 करोड़ रुपये से भी अधिक की राशि बचाने में सफल रहे हैं, जो यह सुनिश्चित करने की दिशा में एक बड़ा कदम है कि देश में किफायती एवं उत्तम दवाओं के अभाव के कारण कोई भी नागरिक इलाज से वंचित न रह जाए।

श्री मंडाविया ने बताया कि इसके अलावा कोरोनरी स्‍टेंट के अधिकतम मूल्‍य तय करने (फरवरी 2017 में, इसके बाद फरवरी 2018 में पुनर्निर्धारण) से लेकर अब तक लगभग 10 लाख हृदय रोगियों ने तकरीबन 8,000 करोड़ रुपये बचाए हैं। इसी तरह घुटना प्रत्‍यारोपण के अधिकतम मूल्‍य तय करने (अगस्‍त 2017 में) से लेकर अब तक घुटना प्रत्‍यारोपण कराने वाले लगभग 1.5 लाख मरीजों ने तकरीबन 2,000 करोड़ रुपये बचाए हैं।

No comments:

Post a Comment

Popular Schemes